लू को ऐसे करें छू। जब लू लग जाए, तो कीजिए 10 उपाय। लू लगने पर क्या करना चाहिए घरेलू उपाय?

लू लगने पर इन उपायों से मिलेगा आराम, आप भी आजमाएं

लू लगने पर घरेलू उपचार। लू लगने के कारण। लू लगने के लक्षण। लू से बचने के तरीके – आइए दोस्तों आज हम आपको बताते हैं। कि गर्मी के मौसम में लू लगने पर कौन से घरेलू उपचार किए जा सकते हैं। ज्यादातर लोग हमें गर्मियों के दिनों में ही लगती है। गर्मियों में लू लगने की वजह से कई सारे लोगों की मृत्यु हो जाती है।

हम आपको बताते हैं, कि लू लगने पर कौन से लक्षण दिखाई देते हैं। लू लगने के घरेलू उपाय कौन-कौन से हैं। गर्मियों के दिनों में तापमान की वृद्धि के कारण लू लगने का खतरा रहता है। तो आज हम आपको बताएंगे, लू से कैसे बचा जा सकता है। लू से कैसे बचा जा सकता है।

लू लगने के कारण

  1. नंगे सिर्फ धूप में चलने से
    2 धूप में ज्यादा मेहनत से
    3 पानी कम पीने से
    4 खाली पेट रहने से
    5 थकान की वजह से
    6 ज्यादा कब्ज से
    7 शारीरिक कमजोरी से

1 नंगे सिर धूप में चलने से तेज धूप में सर खुला रखने से, हमारे मस्तिष्क पर गर्मी का प्रभाव जल्दी होता है। जिसे जल्दी ही पूरा शरीर प्रभावित होता है।

  1. धूप में ज्यादा मेहनत करने से भी हमें लु लगने का खतरा रहता है। क्योंकि जब हम कड़ी धूप में श्रम करते हैं, और उसके बाद अगर हम पानी पीते हैं। तो इससे हमें लू लग सकती है।
  2. गर्मी के दिनों में हमारे शरीर से ज्यादा पसीना निकलने के कारण पानी की कमी हो जाती है। ऐसे में शरीर को पानी की आवश्यकता ज्यादा होती है। किसी कारणवश हम इस कमी को पूरा नहीं करते हैं। लू लगने का खतरा और भी ज्यादा बढ़ जाता है। इसीलिए गर्मी के दिनों में नियमित रूप से पानी पीते रहना चाहिए। हमारे शरीर में पानी की कमी नहीं होनी चाहिए।
  3. खाली पेट रहने से भी हमें लू लगने की संभावना बहुत ज्यादा रहती है। अगर हम ज्यादा देर बिना खाना खाए रहते हैं, और ज्यादा श्रम करते हैं, तो हमें लू लग जाती है। इसीलिए गर्मियों के दिनों में लगातार हमें खाना खाना चाहिए।

5 ज्यादा थकान की वजह से भी हमें लू जैसी शिकायत हो सकती है। अगर हम ज्यादा मेहनत करते हैं, या ज्यादा धूप में खड़ा रहते हैं, तो इसे हम लू की चपेट में आ सकते हैं।

6 यह तो हम जानते ही हैं, कि कब्ज के कारण कई सारी बीमारियां हो जाती है। लेकिन कब्ज के कारण हमें लु जैसी बीमारी भी हो सकती हैं। इसीलिए अपने पेट को हमेशा साफ रखना चाहिए।

7 शारीरिक कमजोरी के कारण भी हमें लू लग जाती है। हमारा शरीर कमजोर होने के कारण ज्यादा गर्मी सहन नहीं कर पाता है। इसलिए हमें लु जैसी शिकायत हो जाती है।

लू लगने के लक्षण

1 अगर आपको तेज प्यास लगती है, तो आप समझ लीजिए, कि आपको लु लगी है।

2 पैरों के तलवों ओर आंखों में जलन होने लगती है। गर्मी अंदर चली जाती है।

3 बहुत बेचैनी और घबराहट होती है।

4 तेज बुखार आता है। हमें जल्दी से बुखार नहीं जाता है।

5 शरीर में तेज दर्द और जकड़न होने लगती है। हमारे शरीर की हड्डियांयो मैं दर्द होता है।

6 सांस बंद होने लगती है, या सांस लेने में तकलीफ होती है। इसके कारण मृत्यु भी हो सकती है।

7 रोगी की याददाश्त और विचारशक्ति कम हो जाती है।

लू से बचने के तरीके

1 लू लगने से बचने के लिए गर्मी में बाहर निकलने से पहले हमें अधिक से अधिक पानी पीना चाहिए। इसके बाद ही हमें घर से बाहर निकलना चाहिए।

2 गर्मियों के मौसम में हमें ज्यादा से ज्यादा सूती कपड़े पहने चाहिए। क्योंकि इससे हमारे शरीर पर जो भी पसीना आता है। वह सूती कपड़े सोख लेते है।

3 गर्मियों के दिनों में बाहर निकलते समय चेहरा सिर हमेशा ढक्कन निकलना चाहिए। इसके लिए हमें टोपी का प्रयोग करना चाहिए। इसे हम लु से बच सकते हैं।

4 जिस स्थान पर बहुत ज्यादा गर्मी हो, या फिर लु की लपटे आती हो, उसी स्थान पर हमें कभी भी नहीं जाना चाहिए। ऐसे स्थान पर जाने से बचना चाहिए।

5 गर्मियों के दिनों में हमें शरबत, ठंडाई, मट्ठा, शिकंजी, नींबू, जीरा, पुदीना, काला नमक, इन खाद्य पदार्थों का उपयोग ज्यादा से ज्यादा करना चाहिए। यह हमारे शरीर को ठंड पहुंचाती है। इससे हम लू लगने से बच सकते हैं।

6 ज्यादा देर तक पेट को खाली नहीं रखना चाहिए। इसके लिए हमें गर्मियों के दिनों में तरबूज या खरबूजे का सेवन करना चाहिए। क्योंकि यह ठंडे चीजे होते हैं। जो हमारे शरीर को ठंडक पहुंचाती है। इसे हमें लू नहीं लगती है।

लू लगने पर घरेलू उपचार

1 पहला उपाय है। रोगी को किसी ठंडे स्थान पर लेटा कर, उसके सर पर ठंडे पानी की पट्टी रखें। उसके कपड़े ढीले कर दे, तथा हाथ पैर और सिर को ठंडे पानी से धोते रहें। बड़े तोलिए को बर्फ के पानी में भिगोकर,

उसके हाथ पैर पोचते रहें। साथ ही हाथ पैरों में प्याज के रस, तथा तेल के मालिश करते रहे। जब तक ठंडे पानी से शरीर को पहुंचते रहे। जब तक की शरीर का तापमान सामान्य अवस्था में ना आ जाए।

2 दूसरा उपाय है। कच्चे आम को पानी में उबालकर, और उसका छिलका निकाल कर, उसका शरबत बना ले। उसमें शक्कर या मिश्री घोल दे, साथ ही सेंधा नमक, भुना हुआ जीरा, पोदीना, भी मिला ले, और इसका शरबत बना कर तुरंत रोगी को पिला दे। इससे रोगी को बहुत फायदा होता है। यह लू लगने पर किया गया खास उपाय है‌।

3 तीसरा उपाय हैं। इमली के रस को शक्कर या मिश्री के साथ उबालकर ठंडा होने पर किसी बोतल में भरकर रख दे। और इसे हर तीन घंटे के बाद रोजाना पिये। इससे रोगी को बहुत लाभ मिलेगा। जल्दी लु का प्रभाव कम हो जाएगा।

4 चोथा उपाय है। लू लगने पर अमृतधारा को पानी में मिलाकर थोड़ी देर में चम्मच की सहायता से दे। इससे रोगी को जरूर आराम मिलेगा।

5 पांचवा उपाय है। लू लग जाने पर नारियल के पानी के साथ काला जीरा पीसकर, शरीर पर लेप करने से बहुत राहत मिलती है।