पहली तिमाही दूसरी तिमाही में एक लड़का होने के लक्षण baby boy symptoms during early pregnancy in hindi
पहली तिमाही दूसरी तिमाही में एक लड़का होने के लक्षण baby boy symptoms during early pregnancy in hindi

मां बनने का जो ehsaas होता है वह हर औरत की zindagi में बहुत ही खास महत्व रखता है क्योंकि 9 mahine एक महिला अपने अंदर एक दूसरे jeevan को रखती है और उसे janam देती है। यह एक बहुत ही खास chiz है, जो भगवान ने सिर्फ औरतों को दी है क्योंकि यह माना जाता है कि औरतें पुरुषों के comparison मे ज्यादा सहनशील होती है।

आज का हमारा article बहुत ही special है। खास करके उन महिलाओं के लिए जो अपने pregnancy period यानी कि दौर से गुजर रही है। आज के हमारे article में हम बात करेंगे ऐसे topic के बारे में जिसके बारे में हर महिला अपनी पूरी pregnancy के समय सोचती रहती है।

और यह topic है बच्चे का लिंग। हर महिला अपनी पूरी pregnancy के time पर इस चीज को लेकर हर time परेशान रहती है और सोच में रहती है, की उसके garbh में पल रहा बच्चा लड़का है या ladki है। परंतु इसका पक्का पता bacche के जन्म के बाद ही चलता है।

आज के इस article में हम आपको बताएंगे ऐसे कुछ symptoms यानी कि लक्षणों के बारे में, जिनसे आप आसानी से पता लगा सकते हैं या andaza लगा सकते हैं कि आपके garbh में पल रहा बच्चा ladka है या लड़की है।

तो आइए सबसे पहले आपको बताते हैं पहली तिमाही में ladka होने के lakshan क्या-क्या होते हैं। पहली तिमाही में अगर garbh में पल रहा बच्चा ladka होता है तो उसके लक्षण क्या होते हैं। पहली तिमाही में ladke के लक्षण कौन-कौन से होते हैं।

पहली तिमाही यानी कि first trimester जो होता है उसमें लड़का होने के लक्षण (baby boy symptoms in first trimester) होते हैं यह –

1 . ऐसा माना जाता है कि pregnancy में first trimester यानी कि पहली तिमाही के दौरान अगर गर्भवती महिला को bukh ज्यादा लगती है, तो इसका मतलब है कि garbh में पल रहा baccha लड़का है।

2 . गर्भवती महिला को first trimester यानी की पहली तिमाही में morning sickness ज़्यादा होती है तो यह माना जाता है कि garbh में लड़का है।

3 . ऐसा माना जाता है कि अगर गर्भवती महिला (pregnant lady) के pet का nichla हिस्सा फुला हुआ होता है या उभरा हुआ होता है, तो इसका मतलब garbh में पल रहा बच्चा ladka होता है।

4 . Pregnancy के दौरान अगर किसी महिला को आलस लगातार बने रहता है, शरीर थका थका सा रहता है तो इसका मतलब garbh में पल रहा बच्चा ladka होता है।

5 . Pregnancy के दौरान अगर महिलाओं के per ठंडे रहते हैं, तो यह garbh में लड़का होने की nishani माना जाता है।

Table of Contents

लड़का हो तो प्रेग्‍नेंसी में मिलते हैं कुछ ऐसे संकेत. putra hone ke lakshan

अब आपको बताते हैं ladka हो तो pregnancy में कैसे संकेत मिलते हैं? Putra hone ke lakshan क्या होते हैं? Ladka होने के संकेत क्या होते हैं? Pregnancy के दौरान लड़का होने के sanket कौन-कौन से होते हैं?

Garbh में पल रहे bacche का लिंग पता लगाने के लिए कई सारे तरीके होते हैं। जरूरी नहीं है कि सिर्फ sonography यानी कि uktrasound से ही bacche के लिंग (gender) का पता लगाया जा सकता है। bacche के gender का अंदाजा आप pregnancy के दौरान कुछ lakshano या संकेतों के द्वारा भी लगा सकते हैं।

Pregnancy के समय ladka होने के संकेत या putra होने के lakshan होते हैं यह-

1 . Pregnancy में ज़्यादा ulti और मतली आना- आमतौर पर pregnancy के शुरुआती दिनों में यानी की पहली तिमाही में morning sickness यानी की ulti और मतली की problem रहती है। परंतु ऐसा माना जाता है कि जिन महिलाओं को morning sickness की परेशानी pregnancy6 के समय अधिक होती है उनके गर्भ में ladka होता है।

2 . हृदय गति (Heart rate) Garbh में पल रहे बच्चे की heart rate अगर 140 बीट प्रति minute (बीएमपी) है, तो यह माना जाता है कि garbh में पल रहा बच्चा ladka है।

3 . मुँहासे निकलना (Acne outbursts) Pregnancy के दौरान अगर किसी भी महिला के chehre पे ढेर सारे मुहासे निकल जाते हैं, तो यह भी इस बात का sanket होता है कि garbh में लड़का है।

4 . भोजन के प्रति आकर्षण ज्यादातर ऐसा होता है कि जो महिलाएं pregnancy के time पर ज्यादा खट्टा और namkeen खाती है, उनके garbh में लड़का होता है।

5 . पेट की स्थिति (Tummy positioning)
Pet के आकार से या स्तिथि (position) से आसानी से यह पता लगाया जा सकता है कि garbh में पल रहा बच्चा ladka है या ladki है। अगर pregnant महिला के pet का निचला हिस्सा उभरा हुआ होता है, तो यह माना जाता है कि garbh में पल रहा बच्चा ladka है।

6 . व्यक्तित्व यानी personality में परिवर्तन- Pregnancy के दौरान महिलाओं की personality यानी व्यक्तित्व से भी garbh में पल रहे bacche के लिंग (gender) का अनुमान लगाया जा सकता है। अगर pregnancy में महिला का nature यानी की स्वाभाव रोबदार, उत्तेजक और दूसरों पर हावी होने वाला हो तो कोई है garbh में ladka होने का संकेत होता है।

दूसरी तिमाही में एक लड़का होने के लक्षण. ladka hone ke lakshan after 4 month

अब आपको बताते हैं दूसरी तिमाही में एक ladka होने के lakshan क्या होते हैं? 4th month में लड़का होने के लक्षण क्या होते हैं? Pregnancy के 4 महीने में ladka होने के लक्षण क्या-क्या होते हैं? दूसरी तिमाही में ladka होने के लक्षण किस प्रकार के होते हैं?

दूसरी तिमाही यानी कि pregnancy के 4th month में ladka होने के लक्षण होते हैं यह-

1 . पेट का आकार

Pregnancy के दौरान अगर गर्भवती स्त्री के pet का निचला हिस्सा fula हुआ या उभरा हुआ होता है, तो यह garbh में ladka होने का संकेत होता है।

2 . पेशाब का रंग

Pregnancy के दौरान अगर किसी महिला को खूब पानी paani के बाद भी गहरे पीले rang का peshab आता है तो यह गर्भ में ladka होने का संकेत माना जाता है।

3 . पेट में दर्द

Pregnancy के दौरान अगर किसी महिला को pet के निचले हिस्से में dard महसूस होता है तो यह माना जाता है कि garbh में पल रहा baccha लड़का है, क्योंकि ladke गर्भ में नीचे की तरफ लात मारते हैं।

4 . मुहांसे निकलना

अगर किसी भी महिला के pregnancy के time पर कील मुंहासे ज्यादा निकलते हैं, तो यह भी garbh में लड़का होने का sanket माना जाता है।

5 . सोने का तरीका

ऐसा माना जाता है कि जो महिलाएं pregnancy के दौरान बाईं करवट लेकर सोती है, उनके garbh में ladka होता है।

बेटा कैसे होता है ladka kaise hota hai

अब आपको बताते हैं ladka कैसे होता है? लड़का किस तरह से होता है? Ladka कैसे होता है? लड़का किस प्रकार होता है? लड़का किस तरह से होता है? Ladka होने का क्या तरीका होता है?

पुत्र प्राप्ति हर किसी शादी शुदा जोडे की इच्छा होती है हमारे समाज (society) में लोगों की यह सोच होती है कि ladka होना बहुत ही जरूरी है। अगर ladka नहीं होगा तो उनका वंश आगे नहीं बढ़ेगा। इसीलिए वंश को आगे बढ़ाने के लिए हर कोई putra प्राप्ति चाहता है यानी कि ladka चाहता है।

तो चलिए आपको बताते हैं लड़का कैसे होता है या किस प्रकार से ladka होता है।

Science यानी कि विज्ञान के अनुसार bacche के लिंग के लिए responsible होते हैं, महिला और पुरुष दोनों के chromosomes. महिलाओं में X X chromosomes मौजूद होते हैं और पुरुषों में X Y chromosomes मौजूद होते हैं।

Sexual intercourse के बाद अगर महिला का X chromosome पुरुष के Y chromosome से मिलता है तब ladka होता है। इसीलिए जो हमारे society की सोच है कि लड़के या ladki होने की वजह औरत ही होती है, यह बिल्कुल गलत है।

बल्कि होता इससे बिलकुल विपरीत है जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया महिलाओं में सिर्फ X X chromosomes ही मौजूद होते हैं और वहीं पुरुषों में X Y chromosomes मौजूद होते हैं। इसीलिए bacche का लिंग पुरुषों के chromosomes पर depend करता है।

बेटा पैदा होने की निशानियां क्या होती है? beta paida hone ki nishaniyan. baby boy hone ke lakshan. symptoms of having a baby boy in hindi

अब आपको बताते हैं beta पैदा होने की निशानियां क्या होती है? Baby boy के लक्षण क्या होते हैं? Baby boy के symptoms क्या होते हैं? What are the symptoms of baby boy ? Baby boy के symptoms क्या क्या होते हैं? Baby boy के लक्षण कौन-कौन से होते हैं?

जब भी कोई महिला pregnant होती है , तो उस समय उसे कई सारी चीजें सुनने को मिलती है कि अगर यह करोगी तो ladka होगा। यह करोगी तो ladki होगी। परंतु इनमें से कुछ चीजें ही सच होती है।

अगर आप भी pregnant है और अपने bacche का gender पता करना चाहती हैं तो कुछ तरीकों से और कुछ लक्षणों से पता कर सकती है। क्योंकि medically बच्चे का gender पता करना बिल्कुल ही इनलीगल है।

यह है कुछ लक्षण यानी कि symptoms जिनसे आप garbh में पल रहे bacche का लिंग पता लगा सकते हैं या जिनसे baby boy का पता लगाया जा सकता है।

1 . Pregnancy में सबसे ज्यादा देखे जाने वाला और सबसे ज्यादा अहम लक्षण होता है ulti या मतली आना। परंतु जब garbh में पल रहा baccha लड़का होता है तब ऐसा माना जाता है कि उल्टी और मलती बहुत अधिक होती है।

2 . अगर pregnancy का तीसरा महीना शुरू होने तक यानी कि first trimester ख़तम होने पर अगर आपकी skin खिल जाती है और chehra सुंदर लगने लग जाता है, तो यह भी garbh में ladka होने का लक्षण होता है।

3 . Pregnancy के time पर महिला के सोने की position से भी गर्भ में लड़के की पहचान की जा सकती है। गर्भावस्था यानी की pregnancy के दौरान अगर कोई महिला normally बाई करवट लेकर सोती है, तो इसका मतलब garbh में ladka होता है।

4 . गर्भावस्था यानी की pregnancy के time पर महिला के खानपान से भी यह पता लगाया जा सकता है कि garbh में पल रहे bacche का gender क्या है। ऐसा माना जाता है कि अगर pregnancy के दौरान किसी भी महिला को bukh ज्यादा लगती है, तो उसका मतलब garbh में पल रहा बच्चा ladka होता है।

5 . Pregnancy के दौरान अगर किसी mahila का अदरक और लहसुन की khushboo से जी मचलता है या उसे ulti आने जैसा mehsoos होता है तो यह माना जाता है कि garbh में पल रहा baccha लड़का है।

pregnancy me ladka hone ke lakshan. garbh me ladka hone ke lakshan. गर्भ में लड़का होने के सिम्पटम्स

अब आपको बताते हैं pregnancy में लड़का होने के लक्षण क्या होते हैं? Garbh में लड़का होने के लक्षण क्या होते हैं? Garbh में लड़का होने की क्या संतान सोते हैं? गर्भ में लड़का होने के symptoms किस तरह के होते हैं? Pregnancy में लड़का होने के लक्षण कौन-कौन से होते हैं?

Pregnancy के दौरान महिलाएं कई सारी चीजें महसूस करती हैं और अपने body में कई सारे बदलाव देखती हैं। उन्हीं बदलावों और लक्षणों के आधार पर bacche के लिंग (gender) के बारे में पता लगाया जा सकता है। परंतु इस बात का कोई भी scientific आधार नहीं है इसीलिए यह पूरी तरह से 100 % सही हो यह भी जरूरी नहीं है।

Pregnancy में लड़का होने के कुछ लक्षण यानी कि लड़का होने कुछ symptoms है यह –

जब भी कोई महिला pregnant होती है यानी कि गर्भवती होती है तो वह हर time यही सोचती रहती है कि इसका होने वाला baccha लड़का होगा या लड़की होगी और वह हर समय यह जानने के लिए इच्छुक रहती है।

Bacche के लिंग का अनुमान लगाने के लिए जरूरी नहीं है केवल ultrsound ही नहीं होता है । इसके अलावा भी कई ऐसे लक्षण यानी कि symptoms होते हैं, जिनके आधार पर आसानी से bacche के लिंग का अनुमान लगाया जा सकता है। तो आइए आपको बताते हैं pregnancy में लड़का होने के कुछ लक्षणों के बारे में।

1 . उलटी का पता करें

Pregnancy के time पर अगर किसी महिला को सुबह उठने में ज्यादा weakness महसूस हो रही है और ulti कम महसूस हो रही है, तो यह garbh में ladka होने का लक्षण है |

2 . हार्ट के काम करने की स्पीड

अगर garbh में पल रहे बच्चे की heart rate 140 बीएमपी है, तो इसका मतलब garbh में पल रहा baccha लड़का है |

3 . मुहासे निकलना

अगर किसी भी गर्भवती महिला के chehre पर pregnancy के दौरान की मुंहासे बहुत ही ज्यादा निकलते हैं, तो यह भी garbh में लड़का होने का lakshan होता है।

4 . खान पान मे बदलाव

अगर किसी भी pregnant महिला को ज्यादातर खट्टा या namkeen खाने की इच्छा रहती है, तो यह माना जाता है कि गर्भ में पल रहा baccha लड़का होता है।

5 . पेट कैसा दिखता है

Pregnant महिला का pet अगर नीचे की तरफ झुका हुआ होता है और pet का निचला हिस्सा फूला हुआ या उभरा हुआ होता है, तो इसका मतलब garbh में पल रहा बच्चा ladka होता है। यह गर्भ में ladka होने का एक बहुत ही एहम लक्षण होता है।

6 . Urine( पेशाब) के कलर में बदलाव

Pregnancy के दौरान अगर किसी महिला के urine यानी के पेशाब का रंग गहरा होता है, तो यह दिन में ladka होने का लक्षण माना जाता है।

7 . स्तनों के आकार में बदलाव आना

Pregnancy के दौरान गर्भवती महिला के स्तन बढ़ने लगते है और उनमे doodh का निर्माण होने लगता है। लेकिन अगर किसी pregnant महिला का right side का स्तन बढ़ता है, तो यह garbh में ladka होने का लक्षण होता है।

9 month pregnancy baby boy symptoms in hindi. symptoms of baby boy 9 month in womb in hindi

अब आपको बताते हैं 9 month pregnancy में baby boy के symptoms क्या होते हैं? 9 महीने के garbh में लड़का होने के संकेत क्या क्या होते हैं? 9 month pregnancy बेबी boy symptoms कौन-कौन से हैं? what are the symptoms of baby boy in 9 month womb?

यह तो हम सभी जानते हैं कि pregnancy का period पूरे 9 mahino का होता है और 9 month जो है वह pregnancy period का end होता है। ऐसा माना जाता है कि pregnancy के 9 month में problems यानी की परेशानियां महिलाओं के लिए zyada बढ़ जाती है।

Pregnancy के 9 month यानी pregnancy period के end के दौरान कई सारी ऐसी चीजें होती है या फिर ऐसे संकेत होते हैं, जिनके द्वारा आसानी से यह पता लगाया जा सकता है कि garbh में पल रहा बच्चा ladka है या ladki है।

तो आइए आपको बताते हैं 9 month की pregnancy में कुछ ऐसे symptoms जिनके द्वारा यह पता लगाया जा सकता है कि garbh में ladka है।

1 . अगर किसी भी महिला की pregnancy के 9 month में pet के निचले हिस्से में खिंचाव महसूस होता है या dard महसूस होता है, तो इसका मतलब garbh में पल रहा बच्चा ladka है क्योंकि ladka हमेशा garbh में नीचे की तरफ होता है।

2 . Pregnancy के 9 month में महिला के pet के द्वारा भी bacche के लिंग का पता किया जा सकता है। ऐसा माना जाता है कि अगर pregnancy के 9 month में आपका weight बढ़ जाता है या आपको अपने body में भारीपन महसूस होता है, तो उसका मतलब garbh में पल रहा baccha लड़का है।

3 . अगर किसी भी महिला को अपनी pregnancy के 9 month में अपने pet पर itching यानी की खुजली महसूस होती है, तो यह भी garbh में लड़का होने का एक symptom होता है।

4 . Pregnancy की आखिरी महीने यानी कि 9 month से अगर महिला को बहुत ज्यादा आलस रहता है या बहुत ज्यादा neend आती है, तो यह भी garbh में ladka होने का संकेत होता है।

5 . Mahila को अगर pregnancy के 9 month में पैरों में ऐंठन महसूस होती है तो यह भी garbh में लड़का होने का एक sanket होता है।

6 महीने में बच्चा लड़का लक्षण. 6 mahine ke garbh me ladka hone ke symptoms

अब आपको बताते हैं 6 महीने में बच्चा लड़का होने के लक्षण क्या होते हैं? 6 महीने गर्भ में लड़का होने के सिम्टम्स क्या होते हैं? प्रेगनेंसी के सिक्स मंथ में बच्चा लड़का होने के लक्षण कौन-कौन से होते हैं ?6 महीने के गर्भ में लड़का होने के सिम्टम्स कौन-कौन से होते हैं?

Pregnancy का 6 month यानी कि छठा महीना, second trimester यानी की दूसरी तिमाही का आखिरी mahina होता है । pregnancy के 6 month होने पर महिलाओं के शरीर में कई सारे बदलाव आते हैं। यह बदलाव physical होने के साथ-साथ emotional भी होते हैं।

ऐसे ही कुछ बदलावों के कारण होने वाले symptoms यानी कि लक्षणों के द्वारा आसानी से आप यह पता लगा सकती है कि आपकी garbh में पल रहा baccha लड़का है या लड़की है। इसके लिए आपको सिर्फ इतना करना है कि आप इन लक्षणों के बारे में जाने और इन पर गौर करें यानी कि dhyan दें।

यह है pregnancy के 6 month में गर्भ में ladka होने के लक्षण यानी कि symptoms.

1 . जैसा कि हमने आपको बताया pregnancy का 6th month जो होता है वह दूसरी तिमाही यानी second trimester का आखरी महीना होता है। pregnancy के 6th month में महिलाओं के breast का size बढ़ जाता है और यह garbh में लड़का होने का sanket होता है।

2 . Pregnancy के दौरान महिलाओं के body में कई सारे बदलाव आते हैं। ऐसे ही pregnancy में त्वचा (skin) में बदलाव आना एक आम बात है। ऐसा माना जाता है कि अगर garbh में लड़का है, तो pregnant महिला के चेहरे पर दाने, मुंहासे और daag ज़्यादा दिखने लगते हैं। किसी भी गर्भवती महिला के garbh में लड़का होता है तो उसका चेहरा मुरझाया हुआ नजर आने लग जाता है।

3 . Pregnancy के time पर महिलाओं को कई तरह की problems का सामना करना पड़ता है और उन्हीं में से एक है हाथ पैरों में सूजन रहना और hath per ठंडे रहना। यह सिर्फ एक problem नहीं है बल्कि garbh में लड़का होने का संकेत भी माना जाता है। pregnancy के दौरान अगर किसी भी महिला के हाथ पैर ठंडे रहते हैं, तो ऐसा माना जाता है कि garbh में ladka है।

4 . Garbh में पल रहे bacche की दिल की धड़कनों से भी उसके gender का पता लगाया जा सकता है। garbh में पल रहे बच्चे का दिल एक minute में लगभग 140 बार धड़कता है। लड़कों के dil की धड़कन लड़कियों के दिल की dhadkan के comparison धीमी होती है, इसलिए अगर बच्चे का दिल एक मिनट में 140 BPM धड़के, तो यह माना जाता है कि garbh में पल रहा बच्चा ladka है।

5 . इन सभी के अलावा pregnancy के 6th month में गर्भ में लड़के की पहचान के लिए सबसे अहम माने जाने वाला lakshan है, pet का आकार। अगर किसी भी pregnant महिला का pet नीचे की ओर झुका हुआ है तो इस lakshan को garbh में ladka होने का संकेत माना जाता है।

ladka hone ke tips. लड़का पैदा करने की विधि बताएं. लड़का कैसे पैदा होगा. बेटा पैदा करने का तरीका

अब आपको बताते हैं लड़का होने के tips क्या होते हैं? Ladka पैदा करने की क्या vidhi होती है? लड़का कैसे paida होता है? Beta पैदा करने का tarika क्या होता है? Ladka पैदा होने की tips क्या है? Ladka पैदा करने की क्या विधि होती है किस प्रकार ladka पैदा किया जाता है?

आजकल की बढ़ती हुई भागदौड़ में हर कोई जिम्मेदारियों से बचना चाहता है। इसीलिए ज्यादातर couples सोचते हैं कि वह एक ही baccha प्लान करें और वह एक baccha भी अगर ladka हो तो फिर कहने ही क्या है।

आप जैसे कई लोग ऐसे होंगे जिनमें ladke की चाह होगी और हमेशा यह सोचते होंगे कि मैं ऐसा क्या करें जिससे उन्हें putra प्राप्ति हो जाए यानी कि उन्हें ladka हो जाए। चलिए हम आपको बताते हैं कि लड़का कैसे paida होता है। ladka पैदा होने की tips क्या होती है।

यह है कुछ तरीके जिनके base पर आप लड़का paida कर सकते है।

1 . Garbh में पल रहे बच्चे का gender पता करने में संभोग की अवस्था यानी कि sexual intercourse के दौरान position एक बहुत ही important role निभाती है। लड़का paida करने के लिए, sexual intercourse के time पर स्त्री और पुरुष के शरीर की position ऐसी होनी चाहिए, जिससे कि पुरुष यानी कि male के sperm महिला के body में अंदर तक जाए। इसके अलावा लड़का paida होने के लिए ovulation के आसपास के दिनों में संभोग करने की advice दी जाती है।

2 . ऐसा माना जाता है कि पुरुषों का boxer या shorts पहनना male sperm को बढ़ाने के लिए अच्छा होता है। shorts या boxer पहनने से अंडकोष (scrotum ) का temperature जो होता है वह balanced रहता है। temperature balanced रहने से scrotum में sperm की quantity और quality दोनों ही बढ़ जाती है। ऐसा होने से ladka पैदा होने के chances बढ़ जाते हैं।

3 . किसी भी महिला के pregnant होने और लड़का paida होने के लिए ovulation बहुत ही ज्यादा importance रखता है। ovulation के आखिरी दिन या उसके अगले दिन physical relation बनाए जाएं तो ladka पैदा होने के chances ज्यादा रहते है।

ladka hone ki medicine. बेटा पैदा करने वाली दवा

अब आपको बताते हैं ladka होने की medicine क्या होती है? Beta पैदा करने वाली dawa कौन सी होती है? Ladka होने की medicine कौन सी होती है? किस medicine से लड़का पैदा होता है? Beta पैदा करने वाली dawa किस प्रकार की होती है? किस दवा के इस्तेमाल से beta पैदा होता है?

जहां महिलाएं ladka होने यानी कि बेटा paida होने के लिए कई सारे upay करती हैं। वही कई सारी ऐसी दवाएं भी हैं जिनके सेवन से beta पैदा होता है। परंतु इन दवाओं की किसी प्रकार की कोई gaurantee नहीं होती है क्योंकि दवाओं के साथ साथ और भी कई सारी चीजें होती हैं जिन पर bacche का लिंग (gender) depend करता है।

Patanjali की पुत्रजीवक नामक dawa के इस्तेमाल से बांझपन को दूर किया जा सकता है और इसी के साथ-साथ इसका use लड़का पैदा करने यानी कि beta पैदा करने के लिए भी किया जाता है।

पतंजलि की putrajeevak दवा ayurvedic जड़ी बूटियों से बनी हुई है। पुत्रजीवक dawa और कुछ नहीं बल्कि शिवलिंगी के beej होते हैं। इन बीजों का सेवन doodh के साथ करने से गर्भवती (pregnant) महिला का गर्भ healthy रहता है और putra की प्राप्ति होती है।

7 ओर 8 महीने की प्रेगनेंसी में लड़का होने का क्या लक्षण होता है? 7 month pregnancy baby boy symptoms in hindi and 8th month pregnancy baby boy symptoms

आपको बताते हैं pregnancy के सातवे और आठवें mhine में ladka होने के क्या लक्षण होते हैं? Pregnancy 7th month और 8th month में baby boy के symptoms क्या होते हैं? 7 momth की pregnancy में baby boy के symptoms कौन-कौन से होते हैं? 8 month की pregnancy में बेबी बॉय के symptoms किस तरह के होते हैं?

Pregnancy के दौरान महिलाएं अलग-अलग तरह के लक्षण mehsoos करती हैं और उन्हीं लक्षणों के आधार पर bacche के लिंग का पता भी लगाया जा सकता है। यह तो जाहिर सी बात है कि जिन महिलाओं के garbh में लड़का होता है और जिन महिलाओं के गर्भ में ladki होती है, उन दोनों को ही अलग-अलग प्रकार के लक्षण महसूस होते हैं।

तो आइए आपको बताते हैं pregnancy के 7, 8 month में garbh में लड़का होने के symptoms यानी कि लक्षण क्या होते हैं।

1 . ऐसा माना जाता है कि अगर 7, 8 महीने तक गर्भ में baccha ज्यादा हलचल करता है, इसका मतलब garbh में पल रहा बच्चा ladki होती है क्योंकि लड़कियों के मुकाबले लड़के garbh में hulchul थोड़ी कम करते हैं।

2 . 7, 8 महीने की pregnancy में महिला के pet के आकार से भी बच्चे के लिंग का पता लगाया जा सकता है। अगर किसी भी महिला का pet गोल नहीं है और नीचे की तरफ झुका हुआ है तो इसका मतलब यह होता है कि garbh में पल रहा बच्चा ladka होता है।

3 . अगर किसी भी mahila के garbh में लड़का होता है तो 7, 8 month में उसे mood swings ज्यादा महसूस होते हैं और khane की इच्छा भी लड़की के comparison मे ज्यादा होती है।

4 . Pregnancy के 7, 8 mahine तक अगर किसी महिला की सुंदरता बिल्कुल ढल जाती है यानी कि chehra बिल्कुल फीका पड़ जाता है, तो यह माना जाता है कि garbh में पल रहा baccha लड़का होता है।

5 . Pregnancy के 7, 8महीने तक महिलाओं के हाथ पैरों में काफी ज्यादा swelling आ जाती है। यह swellimg लड़का या लड़की दोनों की condition में आती है। परंतु अगर किसी महिला के हाथ per ठंडे रहते हैं, तो यह माना जाता है कि garbh में पल रहा बच्चा ladka है।